अच्छे लोगों के साथ अक्सर बुरा ही क्यों होता है ? Why Does Bad Things Happen To Good People?

नमस्कार दोस्तों,

Why Does Bad Things Happen To Good People:- हमेशा की तरह आज का Blog भी बहुत ज्यादा Intresting होने वाला है। इस ब्लॉग को पढ़ने के बाद में आप जरूर कुछ ना कुछ ऐसा सीखेंगे जो आपको जीवन के पथ पर अग्रसर होने में काम आएगा ।

1. Act Of Kindness –

✫अक्सर मैंने लोगों को कहते हुए सुना है या फिर शिकायत करते हुए सुना है कि हम लोगों के साथ बहुत अच्छा करते हैं हमारे साथ हमेशा ही बुरा होता है । लोग हमारे द्वारा की गई अच्छाई को नहीं देखते बल्कि किसी मजबूरी के चलते हम कोई एक गलती कर देते हैं या फिर किसी प्रकार की मदद करने में असमर्थ होते हैं तो हम उनके लिए बुरे बन जाते हैं ।

✫मेरे दिमाग में इसको लेकर को उदाहरण आ रहा है मैं उसको आपके साथ साझा करना चाहूंगा । एक बार एक गांव में बहुत सारे भिक्षुक आए थे। उन्होंने पूरे गांव के प्रत्येक घर में जाकर के भिक्षा मांगी परंतु उनको रोटी का आधा टुकड़ा भी नसीब नहीं हुआ । वह गांव से निकलने ही वाले थे कि उनको गांव के बाहर एक झोपड़ी दिखाई दी जहां पर एक महिला अनाज साफ कर रही थी । मैं सभी भिक्षुक वहां पर रोटी पाने की लालसा से चले गए । उस वक्त उस महिला के पास घर में जितनी भी रोटियां थी उनमें से आधी रोटियां उन्होंने भिक्षुक को दे दी । अगले दिन फिर वही भिक्षुक थक हार कर के उसी की झोपड़ी पर आप पहुंचे और उस महिला ने फिर से उनके लिए रोटियां दे दी । अब तक लोगों को यकीन हो गया था कि हमें यहां पर रोजाना रोटी मिल सकती है तो इसलिए वह प्रतिदिन वहीं पर भिक्षा मांगने जाने लगे । किसी कारणवश उस महिला की अर्थ की स्थिति कमजोर हो गई और वह अब उन भिक्षुक लोगों को उतना खाना नहीं दे पाती थी जितना वह पहले दे रही थी । उस औरत ने फिर भी उनको खाना देना जारी रखा । एक दिन ऐसा आया कि वह औरत है उनको खाना खिलाने में पूर्णता है समर्थ थी तो उसने उन को हाथ जोड़कर विनती की और कहा कि मैं अब आपको खाना खिलाने में समर्थ नहीं हूं ।
भिक्षुक यह सुन कर के वहां से नाराज होकर चले गए और आपस में बातें करते हुए उस औरत को कोसने लगे । जाते वक्त उन्होंने गांव के लोगों के सामने भी उस औरत के बारे में भली बुरी बातें कहीं । लोगों ने कहा कि हमने कभी यह उम्मीद नहीं की थी कि यह औरत हमें खाने को नहीं देगी ।
✫यह छोटा सा उदाहरण आपको समझाने में कामयाब रहा होगा कि उन लोगों के साथ कैसी परिस्थितियां होती है जो लोग अक्सर दूसरों की मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं ।

2. Why This Happens –

जो लोग अक्सर लोगों की भलाई करते हैं उनकी प्रत्येक छोटी से छोटी गलती भी लोगों को बहुत बड़ी नजर आने लगती है । ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अच्छा करने वाले लोगों से उम्मीद की जाती है कि वह हमेशा ही ऐसा करते रहेंगे । अगर किसी कारणवश वह लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं,या फिर हम कह सकते हैं किसी परिस्थिति का शिकार होकर वह कुछ भी अच्छा करने में समर्थ नहीं होते हैं तो फिर लोग उनकी बुराई करने में कसर नहीं छोड़ते हैं । आपके द्वारा किसी इंसान के साथ लंबे समय तक किया गया अच्छा व्यवहार उनके लिए सामान्य बन जाता है,और आपके द्वारा की गई छोटी से छोटी गलती भी उनको बहुत बड़ी नजर आने लगती है । यही कारण है कि हमें प्रतीत होता है अच्छे लोगों के साथ बुरा व्यवहार किया जा रहा है ‌।

3. What You Have To Learn –

✫दोस्त आप बात करते हैं अच्छे लोगों के बारे में कि क्या वह वाकई में अच्छे होते हैं या फिर लोगों से तारीफ पाने के लिए अच्छा बनने का ढोंग करते हैं। किसी इंसान का अच्छा होना या तो उसका स्वभाव होता है या फिर उसके संस्कार होते हैं। किसी एक इंसान के या दो इंसानों के आपके साथ बुरा कर देने से आपका स्वभाव और संस्कार नहीं बदल जाता है।
मैं मानता हूं कि जब किसी अच्छे इंसान को प्रताड़ित किया जाता है,उसके बारे में कुछ बुरा कहा जाता है अथवा उसकी गलती को उछाला जाता है तो उसका बुरा महसूस होना एक सामान्य सी बात है । परंतु अगर वही इंसान दूसरे इंसान को सबक सिखाने के लिए अपनी अच्छाइयां भूल जाता है तो उसका अच्छा होना केवल एक दिखावा था । लोगों के साथ भलाई करने वाला इंसान केवल भलाई करने में अपनी खुशी समझता है उसको फर्क नहीं पड़ता लोग उसके बारे में क्या बातें कर रहे हैं क्योंकि वह इंसान यह कार्य लोगों के लिए नहीं कर रहा बल्कि स्वयं की खुशी के लिए कर रहा है।
अगर कोई इंसान ऐसा करता है तो उसको एक सामान्य इंसान कहा जा सकता है क्योंकि उसकी प्रवृत्ति ऐसी ही होती है।
✫एक वास्तविक भला इंसान कभी भी लोगों की छोटी मोटी बुराई से अच्छाइयां करना बंद नहीं करता क्योंकि वह उसका स्वभाव है । इसलिए हमेशा ही यह बोल देना कि अच्छे लोगों के साथ तो बुरा ही होगा बिल्कुल ही गलत बात है क्योंकि आपका अच्छा होना आपका एक गुण है । आपका अच्छा होना लोगों के लिए आपका व्यवहार है ना कि कोई धंधा जिससे आपको कुछ फायदा प्राप्त हो सके ।
✫आप लोगों के साथ अच्छा करें यह आपकी भावना हो सकती है परंतु लोग आपके साथ हमेशा अच्छा करें अथवा आपकी हमेशा ही तारीफ करें यह एक मूर्खता से भरा हुआ विचार है । आपके द्वारा किसी इंसान के लिए की गई मदद या कोई अच्छा कार्य कभी भी उसको एक एहसान की तरह महसूस नहीं होना चाहिए , बल्कि सामने वाले इंसान को महसूस होना चाहिए कि यह आपका वास्तविक व्यवहार है और आपका प्यार है,जो आपने उनकी मदद की ।

4. Limitations Of Kindness –

मैं यहां पर आपको किसी भी तरह से यह समझाने का प्रयास नहीं कर रहा हूं कि आपके साथ कोई इंसान कितना भी बुरा करें आप लोग बस प्रताड़ित होते रहे। आपको अपने जीवन में कुछ सीमाएं तय कर देनी चाहिए कि अगर कोई इंसान उन सीमाओं को लगता है तो आपको जरूर कुछ ना कुछ एक्शन लेना चाहिए । परंतु छोटी मोटी बातों के लिए कभी भी बदले की भावना आपके अंदर नहीं प्रकट होनी चाहिए । आप को निर्धारित कर देना चाहिए कि इस प्रकार की परिस्थितियां होने पर मैं कभी भी किसी की मदद नहीं कर पाऊंगा और मुझे ऐसी परिस्थिति में स्वयं को बचाना होगा।

इस ब्लॉग के अंत में मैं आपसे इतना ही कहना चाहूंगा अगर आप सिर्फ लोगों की इज्जत पाने के लिए भलाई में लगे हैं तो कम से कम किसी इंसान के द्वारा आपकी सामान्य बुराई करने पर उसके प्रति ईर्ष्या और द्वेष का भाव अपने अंदर ना लेकर आएं ।

धन्यवाद !

Read More Interesting Articles>>

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *