Indian Constitution Complete Notes with Question Answer PDF

Indian Constitution Complete Notes with Question Answer PDF

Indian Constitution Complete PDF in Hindi

नमस्ते दोस्तों Byjus Notes पर आपका स्वागत है। आज हम Indian Constitution Notes की सम्पूर्ण जानकरी की PDF के साथ Indian Constitution के 5000+ प्रश्नोत्तर की PDF लाये हैं, Indian Constitution Complete Notes with Question Answer PDF आपके सभी Sarkari Exam में बहुत उपयोगी और महत्वपूर्ण साबित होगी, यह PDF सभी Sarkari Exam को ध्यान में रखते हुए बनाई गई है।

यहाँ आपको Sarkari Exams के लिए आवश्यक स्टडी मेटेरियल PDF के रूप में उपलब्ध कराया जाता है, ताकि आप अपने Sarkari Exam से संबंधित PDF Download कर पाए और Exams में सफल हो पाए। साथ ही लेटेस्ट सरकारी नौकरी से जुडी सभी प्रकार की जानकारी भी दी जाती है। 

भारतीय संविधान का आरम्भं – ( Starting of Indian Constitution )

आपको पता ही होगा की भारतीय संविधान के प्रमुख निर्माता डॉ भीमराव आंबेडकर थे। जिनका जन्म 1891 में 14 अप्रैल को हुआ। उन्होंने भारत देश में आर्थिक कमजोर वाले वर्ग की परेशानियों को महसूस किया देश में छुआछूत को दूर करने के लिए कहि काम किये और देश में सभी लोगो की बराबर समानता के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सेवा में समर्पित कर दिया। आज देश के हर लोग बाबा साहेब को जानते है लोग उनको पूजते है क्योंकि उनका देश के लोगो के लिए किया गया ये समर्पण पीढ़ियो तक याद रखा जायेगा।

इसी सोच के साथ आज हम आपको Indian Constitution Pdf Hindi (Free download) में प्रदान कर रहे है ताकि सभी विद्यार्थी परीक्षा में पास हो सके और स्वयं के देश के संविधान को अच्छे से समझ सके और उसे अपने जीवन में उतार सके। Indian Constitution Notes PDF in Hindi की लिंक आपको निचे आर्टिकल में दी जाएगी।

Indian Constitution को प्रस्तावित करने का कारण एवं प्रस्तावित करने की तिथि –

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को आंशिक रूप से संपूर्ण भारत देश में लागू कर दिया गया| मुख्यता संविधान के दो भाग होते हैं, पहला भाग लिखित संविधान और दूसरा भाग अलिखित संविधान होता है| सम्पूर्ण विश्व का प्रथम लिखित संविधान USA का है, और विश्व का सबसे बड़े लिखित संविधान का श्रेय भारत के पास है| वर्तमान में, भारत का संविधान 465 अनुछेदो जो की 25 भागों और 12 अनुसूचीयों में लिखा गया है| जिस समय संविधान पुरे देश में लागू हुआ था, उस समय 395 अनुच्छेद, 8 अनुसूची और 22 भाग थे। भारतीय संविधान में समय– समय पर कई संशोधन किए गए हैं|

संविधान के ये नियमो सभी लोगो भविष्य को उज्वल बनाने एवं लोकतंत्र एवं राजनीती को मजबूती प्रधान करने के लिए इसका निर्माण 26 नवंबर सन 1949 में संविधान निर्मित करने वाले सदस्यों ने मिलकर एक अखंड संविधान को भारत सरकार को समर्पित किया गया।

लिखित संविधान में सभी कानूनों और नियमो को लिखित में उल्लेख किया जाता है एवं यह सभी कानून देश के सभी लोगो को मानना एवं उसका पालन करना लोगो का कर्तव्य होता है और जो लोग इन कानूनों की अवहेलना करते है उन्हें गैर संवैधानिक माना जाता है। लिखित संविधान एवं कानून देश का सर्वोच्य कानून होता है।

लिखित संविधान के ठीक विपरीत अलिखित संविधान होता है जो की कहि लिखा हुआ नहीं होता या सिर्फ उसका आंशिक भाग ही लिखा जाता है अलिखित संविधान वंहा होता है जंहा देश के संविधान बदकते ही रहते है या उन्हें बार बार बदला जाता है।

भारतीय संविधान की मुख्य विशेषताएं

देश के संविधान की कुछ प्रमुख विशेषताएं ही भारतीय संविधान को सबसे अलग एवं सर्वश्रेस्ट दिखती है हमे हमारे संविधान पर गर्व है जिसकी ख्याति पुरे विश्व में मशहूर है :

  1. सबसे बड़ा लिखित संविधान
  2. लचीलेपन और कठोरता का समन्वय
  3. एकीकृत और स्वतंत्र न्यापालिका
  4. विभिन्न स्रोतों से निर्मित संविधान
  5. धर्मनिरपेक्ष देश
  6. मौलिक कर्तव्य
  7. सरकार का संसदीय स्वरूप
  8. एकल नागरिकता
  9. सार्वभौम व्यस्क मताधिकार
  10. आपातकाल के प्रावधान

भारत की सरकार और देश के लोगो के लिए संविधान की प्रस्तावना-

भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व – सम्पन्न , हम सभी भारत के लोग , समाजवादी पंथ निरपेक्ष , राजनितिक न्याय, लोकतंत्रात्मक गण राज्य  बनाने के लिए एवं उसके सभी नागरिको को आर्थिक , विचार, विश्वास  अभिव्यक्ति, सामाजिक, उपासना और धर्म की स्वतंत्रता , प्रतिष्ठा और अवसर की समानता , प्राप्त कराने के लिए तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा के लिए और राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता को बढ़ाने के लिए सभी को एक दृढ संकल्पित होना चाहिए ।

भारतीय संविधान की प्रस्तावना के मूल तत्व –

सम्प्रभुता –

सम्प्रभुता का मतलब है सर्वोच्चता और स्वतंत्रता मतलब हमारा भारत एक ऐसा देश है जो की किसी अन्य राष्ट्र की शक्ति के अधीन नहीं है बल्कि यह पूर्ण रूप से स्वतंत्र है।

लोकतान्त्रिक –

भारत देश के लोकतान्त्रिक होने से मतलब है की हमारे देश में सभी को एक समान एवं एक जैसा महत्व दिया जाता है।  देश की शासन व्यवस्था में देश के सभी नागरिको को समानता से मत देने और अपने लिए उचित राजनेता का चुनाव करने का अधिकार है, और महिलाओ व आर्थिक रूप से कमजोर अनुसूचित जातियों को बढ़ावा देने के लिए विशेष सीटे आरक्षित की गयी है।

समाजवादी –

भारत अपने सभी देशवासियो के लिए समाजवादी समानताये रखता है जिसमे देश के किसी लिंग, वर्ण, जाति, धर्म आदि की समानताओं से समाज का एक अभिन्न हिस्सा बनने का अधिकार प्राप्त है।

पंथनिरपेक्ष –

भारत एक ऐसा देश है जो पंथ मुक्त है मतलब भारत किसी भी एक विशेष धर्म को बढ़ावा नहीं देता है। बल्कि सभी को अपनी स्वतंत्रता से अपना धर्म या पंथ की पूजा एवं उपासनाएँ करने की अनुमति है।

Indian Constitution Complete Notes with Question Answer PDF

Download PDF

इसी के साथ ही में आज के आर्टिकल का समापन करता हूँ। उम्मीद करता हूँ की हमारे द्वारा प्रदान की गयी Indian Constitution Complete Notes and Question Answer PDF आपके लिए उपयोगी और बहुत महत्वपूर्ण साबित होगी। और आप सफलता प्राप्त कर पाएंगे।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कोई भी कमी या त्रुटी नजर आती है, तो आप हमें निचे कमेंट वाले बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं, या हमें  दिए गए पते पर मेल कर सकते है, byjusnotes.com@gmail.com पर, दोस्तों Byjus Notes एक ऑनलाइन मंच है यहाँ से आप किसी भी Sarkari Exam के लिए फ्री Study Material डाउनलोड कर सकते है, हमने आपके लिए सबसे बेस्ट स्टडी मटेरियल लाने का प्रयास किया है, अगर आप इस जानकरी से संतुस्ट है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद।

Top Categories:

NCERT

SARKARI EXAM

GENERAL KNOWLEDGE

LATEST NOTIFICATIONS

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *