Perfection के चक्कर में बर्बाद हो जाओगे ! How To Start Without Being Perfect in Anything ?

नमस्कार दोस्तों,

How To Start Without Being Perfect in Anything:- काफी वक्त सोच रहा था कि ब्लॉगिंग शुरू करूं परंतु मैं बार-बार यह सोच कर रह जाता था कि मेरी तो इंग्लिश ही अच्छी नहीं है,मुझे तो लोगों को समझाना भी नहीं आता, मुझे ब्लॉग का SEO करना भी नहीं आता है, मैं इतने लोगों के बीच में कैसे रैंक कर पाऊंगा ? मुझसे पहले बहुत सारे Talented Blogger गूगल पर धमाल मचा रहे हैं , मेरे Blogs को कोन ही पढ़ेगा ? ऐसे ही ख्याल दोस्तों अक्सर हमारे दिमाग में आते हैं,जब हम कोई काम शुरू करना चाहते हैं।

1. Does Perfaction Matter So Much –

दोस्तों आज मैं ‘Perfection’ के चक्कर में हम अपना कीमती समय कैसे गंवा देते हैं” इस पर बात करने वाला हूं । इस ब्लॉग में ज्यादा से ज्यादा Real Life Example देने की कोशिश करूंगा,जिससे आपको चीजे बेहतर तरीके से समझ आएं।
दोस्तों संपूर्ण बनने का ख्याल हमारे डालने वाले ख्याल को ऊर्जा देता है और हम लगातार चीजों को टालते रहते हैं। डालने वाले लोगों के मन में यह ख्याल बहुत ज्यादा आता है कि जब मेरे पास इस काम से जुड़ी हुई सभी चीजें उपलब्ध होंगी और मेरे पास संपूर्ण जानकारी होगी तो मैं शुरुआत करूंगा। ऐसा करते हुए उसको महीने और साल बीत जाते हैं परंतु कभी शुरू ही नहीं हो पाता ‌। आज तक ‘Perfection’ का ख्याल रखने वाले लोगों को चोटी पर पहुंचते नहीं देखा है बल्कि बर्बाद होते ही देखा है। मान लीजिए कोई इंसान कहता है कि मैंने आज से पहले शादी नहीं की है, मुझे शादी करने से पहले उसकी संपूर्ण जानकारी चाहिए तो वह शायद जीवन भर शादी ही ना कर पाए।

2. The Need Of Courage –

दोस्तों कार्य की शुरुआत करने के लिए जितनी महत्वपूर्ण जानकारी होती है उतना ही महत्वपूर्ण हमारा उस कार्य को प्रारंभ करने के लिए जरूरी साहस भी होता है। जिन लोगों के अंदर पहला कदम उठाने का साहस नहीं होता ऐसे लोग ही अक्सर Perfaction के बहाने का इस्तेमाल करते हैं।
कोई भी इंसान मां के पेट से Perfect पैदा नहीं होता है,बल्कि वह इस दुनियां में आकर सारी चीजें सीखता है और जीवन के पथ पर अग्रसर होता रहता है। आज दुनिया में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो बिना बिजनेस की कोई डिग्री लिए शानदार तरीके से व्यापार कर रहे हैं। उन्होंने बस शुरुआत करने की जानकारी जुटाई और अपना काम शुरू किया एवं धीरे-धीरे समय के साथ चीजों को सीखते गए और आगे बढ़ते गए।

3. Real Life Examples –

अगर भारत पाकिस्तान के युद्ध के समय भारतीय सेना मिग-21 का इस्तेमाल युद्ध के लिए नहीं करती और सोच कर बैठ जाती कि जब तक हमें राफेल नहीं मिल जाएगा हम आक्रमण नहीं करेंगे तो क्या भारत उस युद्ध को जीत पाता ? इसका जवाब देने कि मुझे शायद जरूरत नहीं है क्योंकि आप यह चीज अच्छे से जानते हैं कि दुनिया के अंदर कोई भी इंसान या फिर कोई भी चीज परफेक्ट नहीं है। हमें जीवन में आगे बढ़ने के लिए चीजों में Perfection की आवश्यकता नहीं है, बल्कि हमारी सोच में Perfection और Clarity होनी चाहिए।

मैं अक्सर ब्लॉग्स के अंदर खुद के उदाहरण भी देता रहता हूं । इस वक्त भी मैं वही करने वाला हूं। मैंने जब इलेक्ट्रॉनिक्स इंडस्ट्री में कदम रखा तो उस वक्त मैं एक ऑपरेटर की तरह काम करता था। वहां पर बहुत सारी ऐसी मशीनें थी जिनके बारे में मुझे सिर्फ सामान्य जानकारी थी और मैंने कभी उनको ऑपरेट नहीं किया था। जब भी कोई मशीनों को चलाने वाला ऑपरेटर छुट्टी पर होता था तो हमारे सीनियर हमसे पूछते थे कि आप में से कोई ऐसा है जो इस मशीन को चला सके। ऐसे में अधिकतर ऑपरेटर यह सोच कर मना कर देते थे कि उनको इस मशीन के बारे में पूरी जानकारी नहीं है और वह इसको नहीं चला पाएंगे। परंतु मैंने कभी भी Perfection का इंतजार नहीं किया और मैं तुरंत बोल देता कि मैं इस मशीन को चला सकता हूं। मैं वहां पर जाता और अपनी बुद्धि का इस्तेमाल करके Operating Manual को समझता और मशीन को चलाने लगता। ऐसा करते हुए मैंने वहां के प्रत्येक मशीन को चलाना सीख लिया। अगर मैं उस वक्त यह सोचकर मना कर देता कि मुझे इस मशीन की पूरी जानकारी नहीं है तो शायद मैं उनमें से किसी भी मशीन को सीख नहीं पाता।
मैंने वहां पर Perfaction का Excuse देकर काम टालने की बजाय आत्मविश्वास का उपयोग करते हुए जिम्मेदारी उठाने का निर्णय लिया और चीजों को सीख गया।

दोस्तों यहां पर मैं एक और उदाहरण देना चाहूंगा क्योंकि जो चीजें उदाहरण से समझ आती हैं वह अक्सर लंबा भाषण देने से नहीं समझ आती। आप में से बहुत सारे लोगों ने शायद Manoj Dey नाम के यूट्यूब चैनल को देखा होगा । अगर आप इनकी यूट्यूब की यात्रा को ध्यान से देखेंगे तो पाएंगे कि शुरुआत में इनके पास ना ही कोई अच्छा मोबाइल
था जिससे यह अच्छी क्वालिटी की वीडियो बना सके और ना ही अच्छा Setup था जो उस वक्त काफी Successful Youtubers के पास था।
अगर यह उस वक्त इन सब चीजों को सोच कर लगातार वीडियो नहीं बनाते तो आज उनके पास एक अच्छा घर,एक अच्छा मोबाइल फोन,एक अच्छा स्टूडियो,एक महंगा कैमरा नहीं होता । उस वक्त यह 2000 Subscribers के लिए मेहनत कर रहे थे और आज इनके पास लाखों लोगों की Audience है।

Manoj Dey Life Journey – Click Here 

4. First Step Is Very Important –

अपने अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि हम Mistakes से ही सीखते हैं। सोचने वाली बात यह है कि जब हम कुछ करना स्टार्ट ही नहीं करेंगे तो फिर हम गलतियां कैसे करेंगे, और जब हम गलतियां नहीं करेंगें तो फिर हम नई चीजें कैसे सीखेंगे? आप और लोगों से सफलता के रास्ते में यात्रा करना सीख नहीं सकते, क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति की सफलता का रास्ता बिल्कुल ही अलग होता है, जो स्वयं ही बनाना पड़ता है और उस पर स्वयं ही चलना पड़ता है।
आप जो भी करना चाहते हैं उसके बारे में सामान्य जानकारी ढूंढे और आज ही शुरुआत करें। आप समय के साथ गलतियां करेंगे और फिर स्वयं ही उन गलतियों से नई-नई चीजें सीखेंगे।

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी उत्पन्न हो जाती है, जहां पर हमें किसी ऐसी जगह अपना काम करना होता है,जिसके बारे में हमें बहुत कम जानकारी होती है। अब ऐसी जगह पर आप Perfection का इंतजार तो नहीं कर सकते। आपको वहां पर चीजों को Observe करना है और अपनी तीक्ष्ण बुद्धि का इस्तेमाल करते हुए काम को संपन्न करना है।
आपको सफलता के शिखर पर पहुंचने के लिए किसी परफेक्शन की आवश्यकता नहीं है, बल्कि आपके अंदर सीखने की अमिट चाहा होनी चाहिए।

Read More Articels>>

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *