The Success Principles किताब पर मेरे विचार ! Hindi Summary Of Book “The Success Principles” By ‘Jack Canfield

नमस्कार दोस्तों,

आज का मेरा यह ब्लॉग एक किताब से प्रेरित है, जिसका नाम “The Success Principles” है। इस किताब को अमेरिकन लेखक ‘Jack Canfield’ ने लिखा हैं ।

Importance Of Thought –

दुनिया में किसी भी चीज की शुरुआत एक विचार से होती है वैसे ही अगर आपको जीवन में कुछ हासिल करना चाहते हैं तो आपको उस चीज के बारे में विचार करना होगा। सफलता की शुरुआत भी ऐसे ही होती है। आपको सबसे पहले 20 मिनट तक केवल सफलता के बारे में सोचना है और ऐसा करने पर आपके मन में सफलता से जुड़े हुए बहुत सारे सवाल आएंगे।

हर किसी की जिंदगी में ऐसे ऐसे होते हैं जो इंसान को अक्सर पसंद नहीं आते हैं और उनका दोष वह किसी और पर डाल देता है। वास्तविक रुप से यह हमारी परेशानियों से बचने की एक योजना होती है क्योंकि आज हम जो भी हैं उसके पीछे पूरी तरह हम स्वयं ही जिम्मेदार होते हैं। जीवन की बेकार गुणवत्ता का दोष बाहरी चीजों पर डालना एक गैर जिम्मेदाराना कार्य होता है। आप अपने व्यवहार में बहानों को त्यागकर और खुद की जिम्मेदारी लेकर एक अच्छे जीवन की शुरूआत कर सकते हैं। अपने द्वारा लिए गए निर्णय के परिणामों को Ignore करने की बजाय उन्हें देखे,समझे और सुधारने का प्रयास करें।

Trust On What You Want –

अब जो भी बनना या भविष्य में होना चाहते हैं आपको उस पर भरोसा और विश्वास होना बेहद ही आवश्यक है। आपको हम पर विश्वास करने के लिए किसी भी Qualification अथवा लोगों की सलाह की जरूरत नहीं है।
दोस्तों सफलता के मार्ग पर चलने के लिए आपको अपने जीवन की संपूर्ण जिम्मेदारी खुद ही लेनी होगी। आप आज तक जो भी बने हैं उसकी जिम्मेदार कोई बाहरी चीजें नहीं बल्कि आप स्वयं है। आपको अपने जीवन का लक्ष्य स्वयं चुनना है और उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए जितनी भी स्किल्स की आवश्यकता है वह भी आपको स्वयं ही सीखनी है।
आधुनिक विज्ञान भी यह मानता है कि हमारा दिमाग जिस भी चीज को सोच सकता है और उस पर विश्वास कर सकता है वह चीज संभव हो जाती है। किसी लक्ष्य के संभव होने की सोच से दिमाग अपने आसपास वह माहौल बना लेता है जो उस लक्ष्य तक पहुंचने के लिए आवश्यक होता है।
आपके उद्देश्य में सफल होने के लिए लोग आप पर विश्वास करें इसकी आवश्यकता नहीं है बल्कि आप स्वयं पर पूर्ण विश्वास करें इसकी बहुत ज्यादा आवश्यकता है।

Freedom Of Thinking –

दोस्तों आप विचारों को चुनने के लिए आजाद हैं और यह मानव के लिए खूबसूरत तोहफा है। जब भी आपके मन में नकारात्मक और सकारात्मक विचार आते हैं तो आपके पास उनमें से किसी एक विचार को चुनने की स्वतंत्रता होती है। आप सकारात्मक विचार को चुनकर जीवन में आगे बढ़ सकते हैं अथवा नकारात्मक विचारों के साथ अपना समय और अपना जीवन तहस-नहस कर सकते हैं। आप किसी भी लक्ष्य को लेकर या तो यह सोच सकते हैं कि मैं इसमें सफल नहीं हो पाऊंगा या फिर आप यह सोच सकते हैं कि मैं यह आसानी से प्राप्त कर लूंगा। अब जो भी यहां पर चुनते हैं आपकी जिंदगी में परिणाम उसी के अनुसार आते हैं।

Emotions In Goal –

जिस प्रकार आप एक सुंदर स्त्री की तस्वीर को देखकर उसके पाने की लालसा से भर जाते हैं, ठीक उसी प्रकार आपको अपने लक्ष्य की एक बेहतरीन तस्वीर अपने दिमाग में बनानी होगी और उसे प्राप्त करने के लिए अपने अंदर जोश और जुनून जगाना होगा। जिस प्रकार उस सुंदर तस्वीर तस्वीर से आपकी भावनाएं जुड़ जाती हैं, उसी प्रकार अपने लक्ष्य की तस्वीर से भी आपकी भावनाएं जुड़ जानी चाहिए और आपको अहसास होना चाहिए कि जब वह लक्ष्य मिल जाएगा तो आप किस तरह की चीजें महसूस करेंगे।
मित्रों की ब्रह्मांड के अंदर कोई भी चीज बढ़कर रुकने के लिए नहीं बनी है बल्कि पूरा ब्रह्मांड ही लगातार Expand हो रहा है। लगातार बढ़ते रहना और बदलते रहना इस दुनिया का स्वभाव है। दोस्तों आप जीवन में जब कोई छोटा सा लक्ष्य बनाकर उसको प्राप्त कर लेते हैं तो आपके अंदर कभी भी यह विचार नहीं आना चाहिए कि मेरा हो गया। जैसे ही आपके अंदर यह विचार आता है तो आपकी जिंदगी थम जाती है। आपकी जिंदगी में नई खुशियां नहीं रुक जाती है, नई चीजें महसूस होना रुक जाती हैं और आप एक गड्ढे में रुके हुए पानी की तरह smell करने लगते हैं । आप अपना दृष्टिकोण बदल कर अपना संपूर्ण जीवन परिवर्तित कर सकते हैं। आप चाहे तो एक छोटे कुएं में तैर कर पूरा जीवन बिता सकते हैं,या फिर आप एक असीम समुंदर में लगातार गोते मारने का आनंद ले सकते हैं।

Make Your Own Path Of Thinking –

आज आप जहां भी हैं उन आदतों की वजह से हैं जो आदते आपको यहां रखना चाहते हैं। अगर आपको लगता है कि आप वहां नहीं है जहां आपको होना चाहिए तो आपको उन आदतों को सीखना होगा जो आपको वहां तक लेकर जाए। मैं आदतों को लेकर पहले भी ब्लॉग लिख चुका हूं आप चाहे तो सर्च करके पढ़ सकते हैं।
सफलता के रास्ते में आपको जिन लोगों की भी आवश्यकता है उन्हें ढूंढने का प्रयास करें। लोगों को काम से भावनात्मक तौर पर जोड़ने की कोशिश करें। आपको सफल लोगों से यह नहीं सीखना है कि वह क्या सोचते हैं बल्कि आपको यह सीखना है कि वह लोग कैसे सोचते हैं। लोगों के तरीके अपनाने से अच्छा है खुद का एक तरीका विकसित करें और उसको लगातार बेहतर करने का प्रयास करें।

Practical Steps To Be Perform –

जिन कार्यों को करने के लिए आपको टीम की आवश्यकता है तो एक अच्छी टीम बनाएं जिनके अंदर सकारात्मकता से परिपूर्ण विचार हो। अपने टीम के किसी भी सदस्य को ऐसा महसूस ना कराएं कि वह आपके लिए एक Resource है, बल्कि उनको महसूस कराएं कि आप उनकी काम का एक अभिन्न हिस्सा है। टीम के किसी भी सदस्य से वही काम करवाएं जो करने में वह माहिर हो और उनको आनंद आता हो। साथ काम करने वाले लोगों की गलतियों पर क्रोध करने की बजाय उन को सुधारना सिखाए और जिम्मेदारी का अहसास कराएं। लोगों पर जिम्मेदारियां थोपने की बजाय उनको स्वयं जिम्मेदारियां उठाने के लिए प्रोत्साहित करें। प्रोफेशनल सीमाओं को ध्यान में रखते हुए अपनी टीम के साथ अच्छे रिश्ते बनाए और जरूरत पड़ने पर पूरी ईमानदारी से एक दूसरे का सहयोग करें। एक दूसरे के लिए शक पैदा करने की बजाय समस्याओं को बैठकर समझाने का प्रयास करें। अपनी टीम के द्वारा दिए गए सुझावों को खुले मन से स्वीकार करें और नकारात्मक टिप्पणी करने से बचें। अगर कोई सुझाव भविष्य के लिए अच्छा नहीं है तो पूरी समझदारी से अपने साथियों को उसके परिणाम के बारे में अवगत कराएं।

After Getting Money or Success –

दोस्तों पैसा आने की स्थिति में पैसे से जुड़े हुए नकारात्मक ख्यालातों को त्याग दें। अपने आप को समझाएं कि पैसा जरूरतों को पूरा करने के लिए होता है। पूर्णता है पैसे पर निर्भर होकर अपने रिश्तो से दूर जाने से बचें। अपने सामने वाले लोगों को उनके पैसे की वजह से इज्जत देने की बजाय उनके कर्मों और व्यवहार को समझकर इज्जत देने का प्रयास करें। हमेशा कोशिश करें पैसा आपको नियंत्रित ना करें बल्कि आप पैसे को नियंत्रित करें। जीवन में आने वाली कठिन परिस्थितियों से निपटने के लिए पैसा बचाने की आदत विकसित करें और अनावश्यक चीजों में पैसा खर्च करने की बजाय जरूरतमंद लोगों की मदद करें।

आपकी आंखें होने वाली थकान, महसूस होने वाली नकारात्मक भावनाएं और नकारात्मक चीजों की बजाय सफलता के बाद मिलने वाले इनाम और खुशी पर केंद्रित होनी चाहिए। आपको एक गड्ढे के पानी की तरह नहीं बनना है बल्कि नदियों में गोते लगाते हुए असीम समुंद्र में जाकर मिलना है।

धन्यवाद !

Read More Articels>>

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *